मंगलवार, 15 नवंबर 2011

दर्द का अब अहसास न दे

दर्द का अब अहसास न दे

अब कोई आबाज़ न दे

जिनकी कुछ बुनियाद नहीं है

ऐसा कोई ख्वाब न दे


दर्द की आहें और निकलती

इस सूखे बंज़र मन से

दबा के पेट से भीगा कपडा

भाग्य लपेटा है तन से


तिनका तिनका ख्वाव जलाकर

राख समेटे हाथों में

अब तक कितनी कशिश है

शाकी तेरी रुखी बातों में


ना जाने किस राह का में

भूला भटका राही हूँ

किसी कवि की अधूरी कविता

या फिर टूटा आइना हूँ


रफ्ता रफ्ता उमर बढ़ी

जीवन की चौखट सुखी है

नोटों से मुह भरा है लेकिन

दुनियां प्यार की भूखी है


जिधर भी मन का झोंका जाता

एक बीरानी सी छाई है

अहसासात के सूखे कुएं है

दिलों में गहरी खाई है


3 टिप्‍पणियां:

  1. दर्द का अब अहसास न दे

    अब कोई आबाज़ न दे
    जिनकी कुछ बुनियाद नहीं है
    ऐसा कोई ख्वाब न दे

    अच्छा गीत है लय है मधुर है........... र्राग में ढल जाए तो मज़ा आ जायेगा.....!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रिय ब्लागर
    आपको जानकर अति हर्ष होगा कि एक नये ब्लाग संकलक / रीडर का शुभारंभ किया गया है और उसमें आपका ब्लाग भी शामिल किया गया है । कृपया एक बार जांच लें कि आपका ब्लाग सही श्रेणी में है अथवा नही और यदि आपके एक से ज्यादा ब्लाग हैं तो अन्य ब्लाग्स के बारे में वेबसाइट पर जाकर सूचना दे सकते हैं

    welcome to Hindi blog reader

    उत्तर देंहटाएं